२. द्वितीय अध्याय