२३. त्रयोविंश अध्याय