२४. चतुर्विंश अध्याय