३०. त्रिंश अध्याय