४. चतुर्थ अध्याय